25 से 35 साल की उम्र में शुगर होने का खतरा और भविष्य में बचाव के उपाय l Risk of diabetes, prevention


25 से 35 साल की उम्र एक ऐसी अवस्था होती है जब हमारे जीवनशैली और आहार से यह तय हो जाता है कि हमें भविष्य में शुगर (डायबिटीज) होगी या नहीं। शुगर एक बहुत ही गंभीर बीमारी है और इससे बचने के लिए इस उम्र में हमें कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाने चाहिए। इस लेख में हम जानेंगे कि इस उम्र में क्या सावधानियां बरतनी चाहिए ताकि हम भविष्य में शुगर जैसी बीमारियों से बच सकें।


READ MORE: आपकी उम्र जो भी हो, आपका शरीर ख़ुद को कितने साल का समझता है?


शुगर का खतरा और लीवर की भूमिका

25 से 35 साल की उम्र में हमारे शरीर में फैट जमा होना शुरू हो जाता है, खासकर पेट के आसपास। यह फैट लीवर पर असर डालता है। लीवर जब ज्यादा फैट जमा कर लेता है, तो यह शरीर से ज्यादा इंसुलिन की मांग करता है ताकि वह इस फैट को नियंत्रित कर सके। इस वजह से पैंक्रियाज अधिक इंसुलिन पैदा करता है। इससे शरीर में इंसुलिन की प्रभावशीलता कम हो जाती है और शुगर का स्तर बढ़ने लगता है, जो कि 45-50 साल की उम्र में डायबिटीज का कारण बन सकता है।


READ MORE: आटे में ये चीज मिलाएं, आटा ही बन जायेगा दवा


आहार और जीवनशैली में सुधार

25 से 35 साल की उम्र में हमें अपने आहार और जीवनशैली पर विशेष ध्यान देना चाहिए। यहां कुछ महत्वपूर्ण उपाय दिए गए हैं:


1. रात का खाना कम खाएं: रात में हल्का और जल्दी खाना खाने की आदत डालें। कोशिश करें कि 8 बजे के बाद खाना न खाएं। रात में भारी भोजन करने से शरीर को पचाने में अधिक समय लगता है और इससे वजन बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है।


2. चीनी की जगह गुड़ का सेवन: चीनी का सेवन कम से कम करें और उसकी जगह गुड़ का उपयोग करें। गुड़ शारीरिक स्वास्थ्य के लिए अपेक्षाकृत सुरक्षित होता है और इसमें कई पोषक तत्व होते हैं।


3. नींबू पानी पिएं: हफ्ते में कम से कम एक बार नींबू पानी पिएं। यह शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करता है और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है।


READ MORE: बीमारियों से बचने के लिए शरीर को कैसे करें डिटॉक्स


शारीरिक गतिविधि

25 से 35 साल की उम्र में नियमित शारीरिक गतिविधि बहुत महत्वपूर्ण है। यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:


1. आधा घंटा व्यायाम करें: हर दिन कम से कम आधा घंटा व्यायाम करें। यह कोई भी व्यायाम हो सकता है - टहलना, दौड़ना, योगा या जिम जाना। यह शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है और शुगर के खतरे को कम करता है।


2. दिमागी कार्य करें: दिमागी कार्य जैसे पढ़ाई, सोच-विचार या किसी क्रिएटिव गतिविधि में संलग्न रहें। दिमागी कार्य करने से भी ऊर्जा खर्च होती है और यह शरीर को एक्टिव रखता है।


आहार संबंधी सुझाव

1. चीनी का सेवन कम करें: चीनी की मात्रा कम करें और मिठाई, चॉकलेट, कोल्ड ड्रिंक, बिस्किट आदि का सेवन सीमित करें। इसके बजाय, फल, सब्जियां और प्रोटीन युक्त भोजन करें।


2. फाइबर युक्त भोजन करें: फाइबर युक्त भोजन जैसे साबुत अनाज, फल और सब्जियां खाएं। यह पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है और वजन को नियंत्रित करता है।

3. नियमित भोजन करें: नियमित रूप से भोजन करें और खाने के समय का पालन करें। इससे शरीर को आवश्यक पोषक तत्व मिलते हैं और मेटाबॉलिज्म सही रहता है।


शुगर का खतरा और बचाव

शुगर (डायबिटीज) एक ऐसी बीमारी है जो शरीर को कमजोर कर देती है और अन्य बीमारियों का खतरा बढ़ा देती है। अगर आपके परिवार में किसी को शुगर है, तो आपको विशेष ध्यान देना चाहिए। शुगर के कारण होने वाली समस्याएं:


1. अत्यधिक थकान: शुगर के मरीजों को अक्सर अत्यधिक थकान और कमजोरी महसूस होती है।

2. घाव जल्दी ठीक नहीं होते: शुगर के मरीजों के घाव जल्दी ठीक नहीं होते, जिससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

3. आंखों की समस्या: शुगर के कारण आंखों की दृष्टि पर भी असर पड़ता है और समय के साथ दृष्टि कमजोर हो सकती है।

4. किडनी की समस्या: शुगर के कारण किडनी पर भी असर पड़ता है और किडनी फेल होने का खतरा बढ़ जाता है।


निष्कर्ष

25 से 35 साल की उम्र में अपने आहार और जीवनशैली पर विशेष ध्यान देकर हम शुगर जैसी गंभीर बीमारी से बच सकते हैं। रात में हल्का खाना खाएं, चीनी का सेवन कम करें, नियमित व्यायाम करें और फाइबर युक्त भोजन करें। इससे न केवल शुगर का खतरा कम होगा, बल्कि हम एक स्वस्थ और सुखी जीवन जी सकेंगे।


शुगर (डायबिटीज) के खतरे को कम करने के लिए इन उपायों को अपनाएं और अपने भविष्य को सुरक्षित रखें। स्वस्थ रहिए, खुश रहिए!


READ MORE: एक्सरसाइज की शुरुआत कैसे करें? जानिए सही तरीका और बेसिक जानकारी

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.